logo

बसन्त के एकान्त ज़िले में

Hardbound
Hindi
9789357754125
5th
2024
152
If You are Pathak Manch Member ?

बसन्त के एकान्त ज़िले में -
वर्ष 1986 के ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित शीर्षस्थ ओड़िया साहित्यकार सच्चिदानन्द राउतराय ओड़िया साहित्य में काव्य-मुक्ति के अग्रदूत माने जाते हैं। अपने कविता-संग्रहों 'पाथेय' और 'पाण्डुलिपि' द्वारा उन्होंने ओड़िया साहित्य पर नवयुग और नयी कविता के द्वार खोले। उनके कालजयी कविता संग्रह 'कविता : 1962' में इस नयी प्रवृत्ति को और भी स्पष्ट और मूर्त रूप मिला।
बिम्ब योजना में पारंगत राउतराय वर्ण, ध्वनि तथा आकृतियों पर आधारित भाँति-भाँति के बिम्बों का प्रयोग करते रहे हैं। प्रारम्भ से ही उन्होंने मुक्त छन्द का विकास किया जो निर्बाध एवं लचीला है। उनकी मान्यता है कि कविता को समस्त अलंकरण तथा संगीत प्रलोभनों का त्याग कर मात्र कविता, विशुद्ध कविता के रूप में ही अपनी नैसर्गिक गरिमा द्वारा पाठक के मन-मस्तिष्क पर छा जाना चाहिए। सची बाबू का काव्य-संसार पदार्थ से लेकर आत्मा तक फैला है। उनकी कविता क्षयी सामाजिक व्यवस्था के विरुद्ध मानव अधिकारों का एक आक्रोशी घोषणा-पत्र है :
मैं श्रमिकों का कवि खड़ा हूँ
लिए हाथ में क़लम हथियार की तरह
स्वप्न देखता उस दिन का
जब मनुष्य लौटेगा बलिवेदी से
जागेगा स्वतन्त्रता की भोर में
और एक नया लाल सूरज
तथा मेरे कवि की क़लम
करेंगे हस्ताक्षर
मनुष्य-मनुष्य के लिए के अधिकार पत्र पर।

राजेन्द्र प्रसाद मिश्र (Rajendra Prasad Mishra)

राजेन्द्र प्रसाद मिश्रजन्म : 6 अप्रैल 1955, रायरंगपुर, मयूरभंज (ओड़िशा)।एम.ए. (हिन्दी) व पीएच.डी. (जेएनयू, नयी दिल्ली) । अब तक ओड़िया से हिन्दी में अनूदित कुल 90 पुस्तकें प्रकाशित।विश्व हिन्दी सचिवालय

show more details..

सच्चिदानन्द राउतराय (Sachidanand Rautrai)

डॉ. सच्चिदानन्द राउतराय आधुनिक ओड़िया कविता के भगीरथ के रूप में प्रख्यात। कथा-शिल्पी, नाट्यकार एवं साहित्य-मनीषी की हैसियत से भी भारतीय साहित्यकारों में अग्रगण्य। जन्म: 1916, खुर्धा, उड़ीसा मे

show more details..

मेरा आंकलन

रेटिंग जोड़ने/संपादित करने के लिए लॉग इन करें

आपको एक समीक्षा देने के लिए उत्पाद खरीदना होगा

सभी रेटिंग


अभी तक कोई रेटिंग नहीं

संबंधित पुस्तकें